close button

WWW का आविष्कार किसने किया | WWW Ka Avishkar Kisne Kiya

क्या आपको मालूम है की WWW का आविष्कार किसने किया या वर्ल्ड वाइड वेब का आविष्कारक कौन है वर्तमान समय मे अधिक्तर परीक्षाओं इस इस तरह के सवाल पूछे जा रहे है अगर आप एक छात्र है तो आपको वर्ल्ड वाइड वेब के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए आज के समय में हर एक चीज डिजिटल हो रही है

वर्तमान समय मे हर एक स्मार्टफोन यूजर इंटरनेट का इस्तेमाल करता है पूरा दुनिया डिजीटल हो चुका है विश्व भर में लगभग 500 करोड़ लोग से भी ज्यादा लोग इंटरनेट का यानी गूगल का उपयोग करते है कोई न्यूज़ पढ़ने के लिए, कोई अपना नौकरी का आवेदन करने के लिए आदि अपने जरुरत के हिसाब से किसी चीजो को ढूढते है

जब भी हमे किसी भी प्रकार की समस्या होती है तो हम गूगल को याद करते है और वहां अपनी समस्याओं को लिखकर सर्च करते है गूगल के सर्च रिजल्ट में बहुत सारी ब्लॉग वेबसाइट देखने को मिलती है जैसे आपके इस वेबसाइट को WWW का आविष्कार के बारे में जानने के लिए इस ब्लॉग पर आए है

आपको आपका हर एक सवाल का जवाब गूगल पर मिल जाता है आप गूगल पर किसी भी वेबसाइट पर जाने से पहले यदि आप उसके URL पर ध्यान से देखे तो आपको www दिखेगा आपको बता दे कि किसी भी प्रकार के वेबसाइट पर जाने के लिए वर्ड वाइड वेब की आवश्कयता होती है

आपकी जनकारी के लिए बता दे कि WWW वर्ल्ड वाइड वेब हिंदी मतलब विश्व व्यापी वेब होता हैं जब किसी वेबसाइट के यूआरएल के पीछ WWW ऐड हो तो आपको समझ जाना चाहिए यह ब्लॉग या वेबसाइट किसी सर्वर में सेव है या यह वेब वेज से जुड़ा हुआ है।

अगर आप गूगल पर ज्यादा एक्टिव रहते है तो आपने अक्सर देखा होगा कि अधिक्तर वेबसाइट के पहले www लगा रहता है जैसे, कि इस ब्लॉग वेबसाइट को ही देख लीजिए कि ऊपर यूआरएल में WWW ऐड है इसका मतलब यह वेबसाइट भी किसी सर्वर में स्टोर है

लेकिन क्या आपको मालूम है कि इस वर्ड वाइड वेब की सुविधा किसी दी अगर नही मालूम है तो इस पोस्ट में आप जानेंगे कि WWW का आविष्कार और कब किया इस लेख में इसके बारे में पूरी जानकारी विस्तार प्रूवक बताएंगे।

WWW क्या है

www ka avishkar kisne kiya

WWW का फुल फॉर्म world wide web होता है और इसका हिंदी मतलब विश्व व्यापी वेब होता है हम से बहुत से लोग ऐसे समझते है इंटरनेट को ही वेब कहते है लेकिन इसमें बहुत अंतर होता है इंटरनेट एक जानकारी से भरा हुआ डिजिटल दुकान है जहा पर हर एक तरह की जानकारी देखने को मिल जाती है सभी जानकारी किसी किसी न किसी वेब पेज से जुड़ा हुआ रहता है।

वेब पेज html (hypertext mark-up language) के जड़िये जड़िये लिखा हुआ रहता है लेकिन वेब सोर्स में कंटेंट, वीडियो, फोटो आदि हो सकते है अगर वास्तव में बताऊ तो इंटरनेट का मतलब होता है Enter Connnet किसी युक्ति को आपस में जोड़ने के लिए हम इंटरनेट का इस्तमाल करते है जैसी की आप मान लीजिये की इंटरनेट एक बहुत सारे तारो का जाल है या सड़को का जाल है।

मान लीजिये आप मुंबई में रहते है और आपको दिल्ली जाना है तो हम कैसे जाएंगे सड़को के द्वारा इसी को इंटरनेट कह सकते है एक उदाहरण और लेते है जैसे की आपको चेन्नई जाना है तो हमें सहायता लेनी पड़ेगी अक्टिक फाइवर केवल से इंटरनेट के द्वारा जाने के लिए बिछाई गई है

तो फाइवर केवल के द्वारा चेन्नई के डाटा सेंटर तक पहुंच सकते है और वह से जानकारी ले सकते है जैसे की इंटरनेट में होता यही है मान लीजिये की आपके पास तो मोबाइल है या कंप्यूटर है जिसमे नेटवर्क चलता है इसके माध्यम से सारे नेटवर्क को फिजिकल केवल के द्वारा आपस में जोड़ देता है यही इंटरनेट है।

यह इंटरनेट पर जितने भी पेज, पिक्चर और वीडियो देखते है उन सबका समूह है जिसे हम इंटरनेट की मदद से देख पाते है www को बोलचाल की भाषा में केवल “Web” के नाम से भी जाना जाता है इंटरनेट और Web दोनों अलग-अलग तकनीकें है इस आर्टिकल में हम Web World का ही प्रयोग करेंगे क्योकि बार-बार www बोलना और सुनना दोनों काफी ख़राब लगते है।

WWW का आविष्कार किसने किया था

WWW का आविष्कार एक ब्रिटिश वैज्ञानिक Tim Berners Lee ने किया था टिम बर्नर्स ली का जन्म 6 जून 1955 को लन्दन में हुआ था इनके माता-पिता भी कंप्यूटर वैज्ञानिक थे यह आक्सफोर्ड विश्वविद्यालय से स्नातक किये है वर्तमान में टिम बर्नर्स ली World Wide Web Consortium या (W3 C) के डायरेक्टर है।

जब उन्होंने www का आविष्कार किया था तब उस समय तो वे यूरोपीय परमाणु अनुसंधान संगठन, जेनेवा (CERN) में कार्य कर रहे थे उन्हने ही HTML Markup Language और HTTP Protocol का आविष्कार किया है।

World Wide Web का आविष्कार दुनियाभर के विस्वविद्यालय और संस्थानों में वैज्ञानिको के बीच जानकारी साझा करने की मांग को पूरा करने के लिए की गयी थी Tim Berners Lee जब 1989 में CERN में सॉफ्टवेर इंजीनियर के रूप में कार्य कर रहे थे।

उस समय अलग-ललग कम्प्यूटर्स पर अलग-अलग जानकारियां होती थी इन जानकारियों को प्राप्त करने के लिए सभी कम्प्यूटर्स को अलग-अलग चुनना पड़ता था जिसमे काफी समय भी समय लगता था और परेशानी भी काफी होती थी शुरू में Tim Berners ने Hypertext के माध्यम से जानकारियों के आदान-प्रदान के लिए शुरू किया और Web यानि www का आविष्कार हुआ।

WWW का आविष्कार कब हुआ

World Wide Web का आविष्कार 12 मार्च 1989 में हुआ था जिसे एक ब्रिटिश वैज्ञानिक टिम बर्नर्स ली ने बनाया था वर्ड वाइड वेब को 6 अगस्त 1989 को आम जनता के किये प्रदर्शन किया गया और उसके बाद इसे 23 अगस्त 1991 को सार्वजनिक रूप से उपलब्ध करा दिया गया।

जब टिम बर्नर्स ली इस तरह का सॉफ्टवेर बनाने का सोचा तो उन्होंने पहले मार्च 1989 में Information Management A Proposal नाम का एक डॉक्टुमेंट में अपने विचार को पेश किया था Web को बनाना का CERN संस्था के लिए कोई भी ऑफिसियल प्रोजेक्ट नहीं था।

लेकिन Tim Berners के Boss ने उन्हें ऐसे विकसित करने के लिए समय दे दिया और उन्होंने एक Next कंप्यूटर का इस्तमाल कर के www (वर्ल्ड वाइड वेब) को शुरू कर दिया।

दुनिया की पहली वेबसाइट

सन 1991 में दुनिया की पहली वेबसाइट टिम बर्नर्स ली ने बनाई 

http://info.cern.ch/

जो आप ऊपर दिया गया लिंक दिख रही है वो कोई लिंक नहीं है बल्कि दुनिया के पहला वेबसाइट है जो सबसे पहले Tim Berners Lee के कंप्यूटर पर होस्ट की गई थी Tim Berners Lee ने अप्रैल 1993 में www के उपयोग को Royalty-Free Basic पर उपलब्ध करा दिया था।

FAQ

Q : WWW का फुल फॉर्म क्या है?

Ans : WWW का फुल फॉर्म “World Web Wide” होता है।

Q : WWW का का आविष्कारक कौन है?

Ans : वर्ल्ड वाइड वेब का आविष्कारक टिम बर्नर्स ली है।

Q : WWW का जन्म कब हुआ था?

Ans : वर्ल्ड वाइड वेब का आविष्कार12 मार्च 1989 में हुआ था

अब तो आप समझ गए होंगे कि WWW का आविष्कार किसने किया और कब किया था इसके बारें में काफी अच्छी तरह से बताया गया है ताकि आप अच्छी तरह से समझ सकें।

उम्मीद करता हूँ की आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा अगर आपको इसके बारे में समझने में कोई दिक्कत हो या कोई सवाल है तो कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है हम आपके प्रश्न का उत्तर जरूर देंगे।

अगर ये पोस्ट आपको अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के साथ आगे सोशल मीडिया पर जरुर Share करे।

Related Posts :-

Leave a Comment