close button

त्रिपुरा की राजधानी क्या है | Tripura ki rajdhani kya hai

आज आपको हम इस पोस्ट में की त्रिपुरा की राजधानी क्या है – Tripura ki rajdhani kahan hai इसके अलवा त्रिपुरा राज्य से जुडे रोचक बातों को को जानेंगे त्रिपुरा राज्य भारत के उत्तर-पूर्वी सीमा पर स्थित है यह राज्य भारत का तीसरा सबसे छोटा राज्य है यह प्रदेश छोटा होने के साथ कई खूब सूरत है

त्रिपुरा का गठन 21 जनवरी 1972 को हुआ था इस प्रदेश के उत्तर, पश्चिम और दक्षिण में बांग्लादेश स्थित है जबकि पूर्व में असम और मिजोरम स्थित हैं त्रिपुरा का कुल क्षेत्रफल 10,492 किमी² है क्षेत्रफल के अनुसार यह देश का तीसरा सबसे छोटा राज्य है 

साल 2011 के अनुसार प्रदेश की जनसँख्या लगभग 36,73,917 है जनसँख्या के दृष्टि से भारत का 6 वां सबसे बड़ा राज्य है इससे यह मालूम होता है त्रिपुरा राज्य राज्य भारत के 10 सबसे छोटे राज्य में है त्रिपुरा में सर्वाधिक बोली जाने वाली राजकीय भाषा बंगाली, ककबरक, अंग्रेज़ी है 

त्रिपुरा राज्य पर्यटकों के लिए काफी प्रसिद्ध है यहाँ हर साल लाखों लोग देश विदेश से घुमने के लिए आते हैअगर आप जानना चाहते है की त्रिपुरा की राजधानी क्या है – (Capital of Tripura in Hindi) और त्रिपुरा के प्रमुख पर्यटन स्थल कौन से है आदि जानकारी तो इस पोस्ट को अंत तक पढ़े।

त्रिपुरा की राजधानी क्या है

Tripura ki rajdhani kya hai

भारत के उत्तर-पूर्वी सीमा पर स्थित त्रिपुरा की राजधानी अगरतला है और इस प्रदेश का सबसे बड़ा शहर भी अगरतला भी है अगरतला का गठन 1850 में  महाराज राधा कृष्ण किशोर माणिक्य बहादुर किया था यह शहर त्रिपुरा के पक्षिमी भाग में स्थित है है और इस शहर से हरोआ नदी गुजरती है 

आपकी जानकारी के लिए आपको बता दे की अगरतला का प्रकाश उस समय आया जब माणिक्य वंश ने इसे अपनी राजधानी बनाया था आधुनिक त्रिपुरा क्षेत्र पर कई शताब्दियों तक त्रिपुरी राजवंश ने राज किया त्रिपुरा का स्थपाना किया 14वीं शताब्दी में माणिक्य नामक इण्डो-मंगोलियन आदिवासी मुखिया ने की थी जिसने हिंदू धर्म अपनाया था। 

1808 में इसे ब्रिटिश साम्राज्य ने जीता, यह स्व-शासित शाही राज्य बना फिर 1956 में भारतीय गणराज्य में शामिल हुआ और 1972 में इसे देश के राज्य का दर्जा मिला त्रिपुरा राज्य में आधे से अधिक क्षेत्र वन से घिरा हुआ है जो लोग प्राकृतिक से प्यार करते है उसके लिए यह स्थान घुमने के लिए एक अच्छा पर्यटन स्थल साबित हो सकता है 

अगर हम इस प्रदेश की जनसँख्या की बात करें तो 2011 के जनगणना के अनुसार यहाँ की कुल आबादी करीब 36,73,917 है, जनसँख्या घनत्व 350 किमी2 है कुल क्षेत्रफल लगभग 10,492 किमी2 है। 

जिसमे जनसँख्या के हिसाब से सबसे बड़ा जिला पश्चिम त्रिपुरा(जनसँख्या करीब 1,725,739) है सबसे कम जनसँख्या वाला जिला ढलाई जिला (जनसँख्या करीब 378,230) है और क्षेत्रफल के हिसाब से सबसे बड़ा जिला सिपाहीजाला जिला है जो 1043.58 वर्ग किलोमीटर और सबसे छोटा उनाकोटी जिला जो 686.97 वर्ग किलोमीटर है।

त्रिपुरा से जुड़े कुछ रोचक तथ्य

त्रिपुरा उत्तर-पूर्वी भारत का छोटा और बहुत ही खुबसूरत और अनोखा राज्य है यहाँ की संस्कृति, धर्म और सह्स्ता और खूबसूरती पर्यटकों का मन मोह लेती है आज भी त्रिपुरा की संस्कृति और सभ्यता अपनी ओर आकर्षित करती है त्रिपुरा में हिन्दुओं की संख्या लगभग 84 प्रतिशत है

यहाँ का प्रमुख त्योहर दुर्गापूजा है सर्वधिक बोली जाने वाली बांग्ला यहाँ की प्रमुख भाषा है अगर आप एक छात्र है और आप अपना जेनरल नॉलेज बढ़ाना चाहते है तो त्रिपुरा के बारे में कुछ रोचक तथ्य के बारे में जानकारी होना चाहिए।

  • त्रिपुरा की राजधानी अगरतला है जो क्षेत्रफल और जनसँख्या के हिसाब से इस क्षेत्र का दूसरा सबसे बड़ा शहर है पूर्वोतर भारत में गुहाटी के बाद अगरतला सबसे मत्वपूर्ण शहर है 
  • त्रिपुरा सीमाए वाला राज्य में यह देश के सबसे लम्बी सीमाएं वाला राज्य है यहाँ करीब 865 किलोमीटर लम्बी सीमा है और तीन ओर से इसकी सीमा बाग्लादेश से लगती है
  • त्रिपुरा में स्थित उज्जयंत महल पूर्वतर भारत का सबसे बड़ा सग्रहालय है 
  • त्रिपुरा में कुल 19 जनजातियाँ है और अत्यधिक जनजातियाँ जंगलो में रहना पसंद करते है 
  • इस राज्य में हिन्दू, मुस्लमान, सिख, बौध आदि धर्म के लोग एक साथ रहते है 
  • संगीत और नृत्य यहाँ के संस्कृति का अहम् हिस्सा है
  • त्रिपुरा का दुर्गापूजा अहम् त्योहार है और यहाँ के अर्थव्यवस्था अधिक्तर कृषि पर आधारित है जिसमे मुख्य चावल है 
  • इस राज्य में 80% से अधिक आबादी गावों में निवास करती है और यहाँ के परम्परागत उद्योग गावों पर आधारित है 
  • त्रिपुरा की सबसे बड़ी खासियत यहाँ के वन है जिसमे बांस और बेत की मात्रा अधिक है इसी कारण यहाँ हाथो की कला बड़े पैमानों पर किया जाता है त्रिपुरा में बनाये गए बांस के फर्नीचर पुरे देश भर में प्रसिद्ध है 
  • 2011 के जनगणना के अनुसार यहाँ की आबादी 36 लाख 73 हजार 917 है जिसमे हिन्दुओ की जनसँख्या लगभग 3,063,903, मुसलमानों की 316,042, इसाई 159,882, सिख 1,070, बौद्ध 125,385, जैन 860, अघोषित 5,261 और अन्य लोगो की आबादी 1,514 है।
  • त्रिपुरा में कुल 8 जिले है क्षेत्रफल के हिसाब सबसे बड़ा जिला सिपाहीजाला जिला है जो 1043.58वर्ग किलोमीटर में है और आबादी के दृष्टि से सबसे बड़ा जिला  पश्चिम त्रिपुरा जहाँ की जनसँख्या लगभग 1,725,739 है।

त्रिपुरा राज्य में प्रमुख पर्यटन स्थल

त्रिपुरा प्राकृतिक से भरा हुआ बहुत ही सुन्दर राज्य है ये चारो ओर से पहाडियों, घाटियों, हरी भरी वादियों और पहाड़ी नदियों से घिरा है इस छोटे से प्रदेश में देखने के लिए कई सारे जगह मौजूद है इसके प्रमुख पर्यटल स्थलो में अगरतला, उदयपुर, नील महल, चम्पुई झील, सीफा जाला आदि सामिल है यह प्रदेश भारत के प्रमुख पर्यटन स्थलों में गिना जाता है अगर आपको प्राकृतिक से प्यार है तो आपको यह जगह जरुर पसंद आएगी आइये त्रिपुरा में प्रमुख पर्यटन स्थल के बारे में जानते है।

पर्यटन स्थल का नामस्थान का नाम
उज्जयंत पैलेसअगरतला शहर, त्रिपुरा
नीरमहल रुदिजाला, त्रिपुरा
सिपाहीजला वन्यजीव अभयारण्यअभयारण्य, त्रिपुरा
बाइसन (राजबारी) राष्ट्रीय उद्यानअभयारण्य, त्रिपुरा
उनाकोटी उनाकोटी जिला, त्रिपुरा
कैलाशहर अगरतला, त्रिपुरा
बुद्ध मंदिरअगरतला, त्रिपुरा
जगन्नाथ मंदिरअगरतला, त्रिपुरा
त्रिपुरा राज्य संग्रहालय अगरतला, त्रिपुरा
जम्पुई हिलअगरतला, त्रिपुरा

FAQ – अक्सर पूछे जाने वाला सवाल

त्रिपुरा की राजधानी का क्या नाम है?

त्रिपुरा की राजधानी का नाम अगरतला है और इस राज्य का सबसे बड़ा शहर अगरतला ही है।

त्रिपुरा में कुल कितने जिले है?

त्रिपुरा में कुल 08 जिले है

वर्तमान में त्रिपुरा की आबादी कितनी है?

साल 2011 के जनगणना के अनुसार त्रिपुरा की जनसँख्या करीब 36 लाख 73 हजार 917 है।

त्रिपुरा की स्थापना कब हुआ था?

त्रिपुरा की स्थापना 21 जनवरी 1972 को हुआ था।

त्रिपुरा घुमने के लिए सबसे अच्छा समय कौन सा है?

त्रिपुरा घुमने के लिए सबसे अच्छा समय नवंबर से अप्रैल के बिच अच्छा समय मना जाता है क्योकि इस समय मौसम अनुकूल रखता है।

त्रिपुरा में कौन सी भाषा बोली जाती है?

त्रिपुरा में मुख्य रूप से राजकीय बंगाली और त्रिपुरी भाषा (कोक बोरोक) बोली जाती है इसके अलावा अंग्रेजी, हिंदी आदि भी बोली जाती है।

वर्तमान में त्रिपुरा का मुख्यमंत्री कौन है?

वर्तमान में त्रिपुरा का मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब (जन्म 25 नवंबर 1969) को हुआ था।

त्रिपुरा का प्रसिद्ध स्थानीय भोजन कौन सा है?

त्रिपुरा में  कई तरह के भोजन खाए जाते है जिसमे मुख्य रूप से मछली स्टू, बांस शूट अचार, बंगी चावल आदि शामिल है।

अब तो आप समझ गए होंगे कि त्रिपुरा की राजधानी क्या है – Tripura ki rajdhani kahan hai इसके बारें में काफी अच्छी तरह से बताया गया है ताकि आपको त्रिपुरा के बारे अच्छी जानकारी मिल सकें।

उम्मीद करता हूँ की आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा अगर आपको इसके बारे में समझने में कोई दिक्कत हो या कोई सवाल है तो कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है हम आपके प्रश्न का उत्तर जरूर देंगे।

अगर ये पोस्ट आपको अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के साथ आगे WhatsApp, Instagram, Twitter, Telegram, Facebook पर जरुर Share करे।

Related Articles:-

बिहार की राजधानीउत्तर प्रदेश की राजधानी
गुजरात की राजधानीराजस्थान की राजधानी
पंजाब की राजधानी झारखण्ड की राजधानी
असम की राजधानी महाराष्ट्र की राजधानी
आन्ध्र प्रदेश की राजधानी अरुणाचल प्रदेश राजधानी
छत्तीसगढ़ की राजधानी गोवा की राजधानी
हरियाणा की राजधानी हिमाचल की राजधानी
कर्नाटक की राजधानी केरल की राजधानी
मध्यप्रदेश की राजधानी मणिपुर की राजधानी
मेघालय की राजधानी मिजोरम की राजधानी
नागालैंड की राजधानी ओडिशा की राजधानी
सिक्किम की राजधानी तमिलनाडु की राजधानी

Leave a Comment