Thermometer Ka Avishkar Kisne Kiya ओर कब किया 2020 में पूरी जानकारी

दोस्तों आज हम जांएगे Thermometer Ka Avishkar Kisne Kiya और कब किया अगर आप जानना चाहते है की थर्मामीटर का खोज किसने किया तो आज सही पोस्ट पर है इस आर्टिकल में थर्मामीटर से जुड़ी सारी जानकारियॉ देंगे आशा करता हु की हमारी यह पोस्ट आपको पसंद आएगी पहले के डॉक्टर द्वारा थर्मामीटर का इस्तेमाल किया जाता है यह डॉक्टर में उपयोग किये जाने वाले उपकरणों में सबसे आसान उपकरण है जिसका उपयोग घर-घर में किया जाता है।

Thermometer Ka Avishkar Kisne Kiya

थर्मामीटर का इस्तेमाल शरीर के तापमान को मापने के लिए किया है इससे यह पता करते है की आपको कितने टेम्प्रेचर का बुखार है अगर आपके परिवार में किसी को बुखार महसूस हो रहा है तब आपको शरीर का तापमान देखने के लिए थर्मामीटर की आवश्यकता होगी इसलिए आपको थर्मामीटर कैसे देखते है की जानकारी होना आवश्यक है क्योंकि इलाज के लिए शरीर के तापमान की सही जाँच समस्या को समझने में जरूरी होती है।

Thermometer Ka Avishkar Kisne Kiya और कब किया

सन 1593 में गैलिनोयो गैलीली ने थर्मोस्कोप का अविष्कार किया था। इससे किसी व्यक्ति का तापमान नहीं नापा जा सकता था इस उपकरण की सहायता से पहली दो वस्तुओ के तापमान के अंतर को मापा जाता था थरमास्कोप से ही थर्मामीटर बनाने की शुरुआत हुई

1612 में, इतावली अविष्कारक सेंटोरियो सेंटोरियो ने सबसे पहले थमोस्कोप पर एक संख्यात्मक पैमाना लगा कर इसे क्लिनिकल थर्मामीटर के रूप में प्रयोग किए जाने योग्य बनाया यह थर्मोस्कोप तापमान नापने के लिए मरीज के मुँह में रखा जा सकता था लेकिन इसे सही तापमान का पता नहीं चलता था न तो गैलीलियो और न ही सैटोरियो के द्वारा बनाए गए थर्मामीटर सही मैप कर पाए दोनों के थर्मामीटर में काफी कमियाँ थी जिनमे सुधार करके आम जीवन के प्रयोग में लाया जाए।

फिर उसके बाद 1641 में टास्कनी के ग्रैंड ड्यूक, फर्डिनेंड || ने पूरी तरह से बंद और तरल पदार्थ से भरी ग्लास थर्मामीटर का निर्माण कराया था उनके थर्मामीटर को अल्कोहल से भरा गया था लेकिन यह थर्मामीटर किसी का तापमान मैप सकने के उपयोगी नहीं था हलाकि इसे थर्मामीटरों के विकास में एक अहम् खोज माना जाता है लेकिन फिर भी इसे हम एक सही थर्मामीटर नहीं सकते थे।

डैनियल गेब्रियल फारेनहाइट थर्मामीटर में पारा का उपयोग करने वाले पहले व्यक्ति थे जर्मन भौतिक विज्ञानी ने 1714 में जिस पारा भरे थर्मामीटर का निर्माण किया था उसे सही अर्थो में आधुनिक थर्मोमीटर का पूर्ववती खा जा सकता है वैसे तो आज कल बहुत से आधुनिक थर्मामीटर उपयोग जा रहा है लेकिन उनमे सबसे ज्यादा पारे के थर्मामीटर का उपयोग ज्यादा किया जाता है।

पहला क्याव्हरिक मेडिकल थर्मामीटर जिसे किसी व्यक्ति का तापमान लेने के लिए उपयोग किया जा सके, सर थामस ऐल्बर्ट ने 1867 में बनाया था आप ऐसा कह सकते हो की थर्मामीटर बनाने की शुरुआत 1593 में गैलिनोयो गैलीली द्वारा की गई थी जो की 1867 में थामस ऐल्बर्ट द्वारा पूरी हुई ये थी थर्मामीटर अविष्कार की कहानी

थर्मामीटर के दो प्रकार हैं। 

Analog Thermometer (एनालॉग थर्मामीटर)

Analog Thermometer kise kahte hai

एनालॉग थर्मामीटर एक सधाहरण थर्मामीटर होता है जिसका खोज सबसे पहले में हुआ था यह एक कांच की नली से बना हुआ होता है और इसके अंदर पारा होता है यदि किसी वास्तु का तापमान ज्यादा होता है तो पारा ऊपर की तरफ चढ़ेगा जिससे हमें तापमान का पता लग जाएगा इसका की नली के ऊपर सेल्सियस के निशान होते हैं जिससे हमें पता चल जाता है कि तापमान डिग्री और सेल्सियस कितना है लेकिन आज-कल के समय में एनालॉग थर्मामीटर का इस्तेमाल ज्यादा तर  बुखार को मापने में ही किया जा रहा है।

Digital Thermometer (डिजिटल थर्मामीटर)

डिजिटल थर्मामीटर एनालॉग थर्मामीटर के मुकाबले काफी आसान होते है समझने के लिए क्योकि इसके अंदन डिजिटल रीडिंग जाती है जो कुछ इस प्रकार है – Advance Direct Connect Adtemp V, Vicks Baby Rectal V934, Brown Thermoscan 5 IRT4520 Ear, Exergen Temporalscanner आदि इनका को टूटने का खतरा नहीं होता है क्योकि इसका बॉडी पलास्टिक के बने होते है इसलिए यह काफी मजबूत होते है

digital Thermometer kise kahte hai

और थर्मामीटर बहुत सेफ होता है क्योकि एनालॉग थर्मामीटर में पारा होता था जिसे माना जाता है की पारा में थोड़ी जहर की मात्रा माना जाता है इसलिए यह थर्मामीटर बच्चो के लिए खतरा था हमेशा डर होता था की कही किसी बच्चे के मुँह में थर्मामीटर टूट न जाए इसलिए डिजिटल थर्मामीटर सही होते है और और एक दम सही तापमान बताते है यह बैटरी पर चलता है जिसकी वजह से यह बहुत टिकाऊ है।

थर्मामीटर का उपयोग कैसे करे

चलिए अब बात करते है की थर्मामीटर का उपयोग कैसे करते है या थर्मामीटर कैसे देखते है इसका उपयोग करना बहुत ही आसान होता ही सबसे पहले आपको डिजिटल थर्मामीटर को ही लेना चाहिए क्योकि उसमे एक दम सही टेम्प्रेचर बताता है डिजिटल थर्मामीटर को लेना है और उसपर एक बटन होता है।

जो चालू और बंद करने के लिए होता है उसपर आपको क्लिक करना है थर्मामीटर चालू होने के बाद अपने मुँह में जीभ के निचे रखना है और मुँह को तब तक बंद रखना है जब तक थर्मामीटर से आवाज नहीं आती थर्मामीटर टेम्प्रेचर मापने के बाद उसमे से एक आवाज आती है उसके बाद थर्मामीटर को अपने मुँह से निकाल कर देख ले की कितना टेम्प्रेचर है।

हमनें क्या पढ़ा –

इस आर्टिकल में हमने पढ़ा थर्मामीटर का खोज किसने किया और कब किया इसके के बारे में बहुत से आसान शब्दों में बताया गया है ताकि आपको अच्छी तरह समझ में आ सके।

  • Thermometer Ka Avishkar Kisne Kiya और कब किया
  • Analog Thermometer (एनालॉग थर्मामीटर)
  • Digital Thermometer (डिजिटल थर्मामीटर)
  • थर्मामीटर का उपयोग कैसे करते है

दोस्तो कैसा लगा ये पोस्ट Comment Box में जरूर बताएं ओर आपका कोई सवाल है तो Comment Box में पूछ सकते है।

अगर ये Post अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ Whatsapp, Instagram, Twitter, Telegram, Facebook पर जरुर Share करे।

इसे भी पढे –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here