close button

NOTA Full Form in Hindi | नोटा क्या है इसका पूरा नाम क्या है

आज आपको हम बताएँगे की नोटा क्या है और NOTA Full Form क्या होता हैं इसे कैसे प्रयोग किया जाता है इसके बारे में हम पूरी जानकारी जानेगें नोटा का मतलब None of The Above इसका मबलब है कि हम किसी भी पार्टी को वोट नही देना चाहते है आपने अक्सर देखा होगा कि जब आप वोट डालने जाते है Evm में देखा होगा कि सबसे नीचे एक बटन होता है।

जिसपर नोटा लिखा हुआ होता है जिसपर नोटा का चिह्न होता है अगर आप इस बटन पर क्लिक करते है तो आपका वोट किसी भी पार्टी को नही जाएगा ओर वो नोटा में काउंट हो जाता है NOTA Full Form क्या है और यह कैसे काम करता है इस पोस्ट में पूरी जानकारी जानेंग।

नोटा क्या होता है

NOTA FULL FORM IN HINDI

अक्सर देखा जाता है कि लोग सड़क, बिजली या फिर क्रिमिनल रिकॉर्ड के कारण लोग किसी को भी अपना वोट नही देना चाहते तो अपना विरोध किस तरह से सरकार को बताएंगे।

इसी कारण निर्वाचन आयोग ने वोर्टिंग सिस्टम में एक ऐसा तरीका निकाला की वोटर अपने विचार के अनुसार सभी पार्टी को इंकार कर सके जो नोटा के द्वारा ही होता है अगर आप नोटा पर वोट देते है तो आपका कहने का मतलब आप किसी भी उम्मीदवार को वोट नही दे रहे है यानी आपके विधान सभा या लोक सभा किसी भी क्षेत्र में कोई भी पार्टी(उम्मीदवार) पसंद नही है।

तो आप EVM वाला मशीन में नोटा का बटन दबा सकते है जो सबसे नीचे होता है लेकिन आपको ये बात अच्छी तरह समझ लेना चाहिए कि नोटा का वोट की गिनती होता है लेकिन वो वोट अमान्य होता है तथा किसी भी पार्टी का हर ओर जीत में इसका कोई रोल नही होता है।

NOTA Full Form क्या है

नोटा का फुल फॉर्म NONE OF THE ABOVE होता है जिसे हिंदी में  ” नन ऑफ द अबब “कहाँ जाता है इसका मतलब कोई भी नही होता है।

NOTA FULL FORM – NONE OF THE ABOVE 

नोटा सबसे पहले संयुक्त राज्य अमेरिकामें इस्तेमाल किया गया था साल 1976 अमेरिका के नेवादा हुए चुनाव में वहां के लोगो को इस तरह का विकल्प दिया गया बाद में धीरे धीरे अन्य देशो में भी इसका इस्तेमाल में चनाव में किया जाने लगा। 

नोटा के पुराने नियम

कहा जाता हैं कि 100 में से 99 वोट नोटा पर पड़ता है किसी भी उम्मीदवार को 1 वोट मिलता है तो उस उम्मीदवार को जीत घोसित किया जाएगा और बचे वोटो का कोई मान्य नही रहेगा यानी कि अगर किसी विधानसभा या लोकसभा क्षेत्र के सभी उम्मीदवार की जमानत जप्त हो जाती है तो इसमें सबसे ज्यादा जिस उम्मीदवार को वोट मिलता है उसको जीत घोसित किया जाता है कभी-कभी ऐसा देखा जाता है।

कि सभी उम्मीदवारो से ज्यादा नोटा पर वोट जाता है गुजरात विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और बीजेपी को छोड़कर किसी भी पार्टी के वोटों की संख्या से बहुत ही ज्यादा थी चलते समय मे 2018 तक नोटा को अमान्य वोट माना जाता था और इसका कोई हार जीत से मतलब नही था।

नोटा के नए नियम

लेकिन 2018 में नोटा को भारत मे पहली बार उम्मीदवारो का दर्जा मिला है और इसके बाद भरत में नई रूल में ये बताया गया है कि अगर नोटा पर ज्यादा वोट हो और वो जितने के कगार पर हो तो सारे उम्मीदवार को रद्द कर दिया जाएगा और पुनः फिर से चुनाव किया जाएगा और अगर किसी भी उम्मीदवार को नोटा से कम वोट मिलता है

तो उसको दुबारा से चुनाव में खड़ा नही हो पायेगा इसके बाद भी अगर नोटा को सबसे ज्यादा वोट मिलता है तो दूसरे नंबर पर आने वाले उम्मीदवार को जीत घोसित कर दी जाएगी।

अगर नोटा ओर उम्मीदवार को बराबर वोट मिलते है तो उम्मीदवार को जीत दे दी जाएगी इसे हमे या गवर्मेंट को ये पता चलता है कि नोटा को वोट डालने का मतलब अपने वोट को खराब करने होता है यानी आप नोटा को वोट देंगे तो इसी की भी जोर ओर हार में कोई तालुक नही रखता है ओर नया रूल के अनुसार वोट दुबारा करवया जाएगा।

NOTA के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी 

आइये नोटा नोटा के बारे में कुछ अनोखी जानकारी जानते है।

  • सन्‌ 2009 में भारतीय चुनाव आयोग ने उच्चतम न्यायालय में इसे भारत में लाने की अर्जी दी थी
  • इसके बाद साल 2013 में नोटा को लेकर उच्चतम न्यायालय ने फैसला सुनाया की वह भी इसके पक्ष में है इसलिए नोट को  ईवीएम मशीन में जोड़ देने की अनुमति मिल गयी।
  • इस तरह से भारत के नागरिक को भी चुनाव के दौरान एक नया विकल्प मिल गया।
  • उसके बाद नोटा की इस्तेमाल सबसे पहले विधानसभा के‌ चुनावो में किया गया जिसमें 15 लाख से ज्यादा लोगो ने नोटा पर वोट देये थे।

नोटा का इस्तेमाल किन देशों मे किया जाता है 

नोटा का इस्तेमाल अनेको देशो में किया जा रहा है जैसे,  कोलंबिया, यूक्रेन, ब्राजील, बांग्लादेश, फिनलैंड, स्पेन, स्वीडन, भारत, चिली, फ्रांस, बेल्जियम और ग्रीस आदि शामिल है भारत में नोटा का इस्तेमाल भारत निवार्चन आयोग ने सबसे पहले दिसंबर 2013 को विधानसभा के चुनाव के लिए किये थे।

नोटा पर वोट देना यानी किसी भी पार्टी पर वोट नहीं दे रहे है यह खारिज विकल्प होता है बहुत सारे लोग चुनाव के दौरान किसी भी पार्टी को वोट देना नहीं चाहते  है उस परिस्थति आपके लिए नोटा एक अच्छा विकल्प है।

नोटा का इस्तमाल कैसे करे

भारत में बहुत सारे लोगो को नोटा का इस्तेमाल करने में परेशानी होती है वह सोचते है की NOTA का इस्तेमाल कैसे किया जाता है तो आपको हम बता दे की जब भी आप वोट देने जाये वोट देते वक्त EVM मशीन में सभी पार्टी के उम्मीदार के चुनाव चिन्ह देखने को मिलता है।

सबसे लास्ट में NOTA का ऑप्शन दिया रहता और उसके सामने उसका बटन भी होता है अगर आप किसी भी पार्टी को वोट नहीं देना चाहते है तो आपको नोटा विकल्प को चुन सकते है इससे आपका वोट किसी भी पार्टी में नहीं जाएगा।

विडियो देखकर नोटा के बारे में जानिए

अब तो आप समझ गए होंगे कि NOTA क्या हैं – NOTA Full Form in Hindi इसके बारें में काफी अच्छी तरह से बताया गया है ताकि आपको NOTA के बारे अच्छी जानकारी मिल सकें।

उम्मीद करता हूँ की आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा अगर आपको इसके बारे में समझने में कोई दिक्कत हो या कोई सवाल है तो कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है हम आपके प्रश्न का उत्तर जरूर देंगे।

अगर ये पोस्ट आपको अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के साथ आगे WhatsApp, Instagram, Twitter, Telegram, Facebook पर जरुर Share करे।

Related Articles:-

Leave a Comment