ED क्या होता है ओर ED Ka Full Form Hindi Mai 2020 पूरी जानकारी

इस आटिकल में हम जानेंगे की ED Kya Hota Hai, ED Kaise Kam Karta Hai और ED Ka Full Form Hindi Mai इससे जुडी सारी जानकारी आपको इस post में मिलेगी ED आज कल बहुत चर्चा में है इसलिए PSC, SSC, Railway के परीक्षा में ऐसे सवाल आ सकते है इसलिए हमने सोचा की इस टॉपिक के बारे को आपके साथ जरुर शेयर करना चाहिए।

ED Ka Full Form Hindi Mai
ED Kya Hai

ED यानि प्रवर्तन निर्देशालय का स्थापना 1956 में किया गया था और ये भारत सरकार के वित् मंत्रालय के अंतर्गत आता है इसे हम एक जाँच अन्जेसी कह सकते है और इसका जो मुख्यालय दिल्ली में है इसका क्या काम है इसे जुडी जानकारी आगे के लाइन में जानेगे दोस्तों चलिए इसके बारे पूरा जानकारी जानते है और टॉपिक की ओर बढ़ते है।

Ed क्या होता है पूरी जानकारी

अपने अक्सर टीवी चैनलों में देखा होगा की ज्यादा तर बड़े-बड़े केसों में ED का नाम लिया जाता है ED का मतलब होता है प्रवर्तन निदेशालय होता है कुछ समय से अपने अच्छे काम की वजह से ED डिपार्टमेंट मिडिया में छाया हुआ था यह एक प्रकार की ख़ुफ़िया चार्ज एजेंसी है जो हमारे देश में फाइनेंस के कार्यो में नगर रखती है काले पैसे की बारे में जांच करती है।

और आय से अधिक सम्पति की जाँच और पूछताछ करती है दरसल ED एक प्रकार का जाँच एजेंसी है जो भारत सरकार के वित् मंत्रालय के विवादों के अधीन काम करती है और मुख्य रूप से ED Directorate of Enforcement का काम भारत में विदेश से जुड़े सम्पति के मामले और अन्य तरह की सम्पति की जाँच है और साथ ही इसके अंतर्गत जो अधिकारी काम करते है।

उनका चुनाव I.A.S और I.P.S रैंक के आधार पर तय किया जाता है किसी भी प्रकार की आर्थिक उथल-पुथल स्थिति में ED की ये जिम्वारी होती है की सही तरह से उस मामले की जाँच करे और आर्थिक रूप से कानून लागु करने की शक्ति भी ED के पास होती है दोस्तों ED की स्थापना 1 मई 1956 को की गयी थी इसके मुख्य 5 कार्यालय है जो की मुंबई, चंडीगड़, चन्नई, कोलकाता और दिल्ली में स्थित है।

Ed कैसे काम करता है

चलिए जानते है की ED कैसे कम करता है इसके कई प्रमुख काम होते है जिनमे लेन-देन से संबधित मामलों और फ़ौरन एक्सचेंज से जुड़े मामलो का तहकीकात करना ED का काम माना जाता है इसके द्वारा पूछताछ करने वाला व्यक्ति को लेन-देन की जांच की जाती है इसके आलावा अगर आप विदेश में किसी भी प्रकार का सम्पति खरीदते है।

तो ED उसकी जांच करता है अगर आप किसी से ज्यादा मात्रा में विदेशी मुद्रा लेकर अपने पास रखते है तो इसकी जांच भी यह करता है और किसी ने विदेशी पैसा का व्यापार करना शुरू कर दिया है जिसकी उसको अनुमति नहीं मिली है तो इसके बारे में यह जाँच करता है।

इसके अलावा इसके पास फेमा उलंघन दोषी पाए गए लोगो की सम्पति जप्त करने का अधिकार भी होता है यह देश या विदेश में किसी भी तरह से सम्पति द्वारा होने वाली धोखा-धडी से बचाता है और दोषियों पर उचित करवाई करता है और इसी भारतीय सरकार ने वित् मंत्री और राजस्व विभाग के तहत ED सर्वउंच स्थान दिया है।

Ed का अधिकार क्या है

चाहिए जानते है की इसका अधिकार क्या है ED यानि प्रवर्तन निदेशालय को फेरा 1973 और फेमा 1999 ये दो अधिनियम के तहद भारत सरकार के तहद किसी भी प्रकार के चार्ज करने का शिकार ED को प्रदान किया गया है इसके अलावा भारत सरकार ने इसको विदेशी मुद्रा के अधिनयम के तहद निपटने की पूरी छुट दी है।

इसके अलावा सरकार के द्वारा इसको कुछ और भी अधिकार प्राप्त है जैसे विदेश में किसी भी सम्पति पर कारवाही करके रोकने और तंग करने का अधिकार इसके पास है काले पैसे के आरोप में पाए गए लोगो के खिलाफ जप्ती, गिफ्तारी और कोच करने का भी अधिकार ED के पास है।

Ed Ka Full Form Hindi Mai – Ed का फुल फ्रॉम क्या होता है

अपने ऊपर के आटिकल में ED क्या होता है, ED कैसे काम करता है यर सब हम ऊपर के हार्डिंग में पढ़ चुके है अब हम जानेंगे की ED का Full Form क्या होता है यानि Ed Ka Full Form Hindi Mai तो चलिए जानते है ED का Full Form होता है Enforcement Directorate या Directorate General of Economic Enforcement इसे हम हिंदी में प्रवर्तन निदेशालय या आर्थिक प्रवर्तन महानिदेशालय होता है।

हमनें क्या पढ़ा –

इस आर्टिकल में हमने पढ़ा ED Kya Hota Hai, ED Ka Full Form in Hindi और भी इसे जुडी सारी रोचक बातें बहुत ही आसान शब्दों में बताया गया है ताकि आपको अच्छी तरह समझ में आ सके।

  • ED क्या होता है
  • Ed का Full Form क्या होता है
  • ED कैसे कम करता है
  • इसका अधिकार क्या है

दोस्तो कैसा लगा ये पोस्ट कैसा लगा Comment Box में जरूर बताएं ओर आपका कोई सवाल है तो Comment Box में पूछ सकते है।

अगर ये Post अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ Whatsapp, Instagram, Twitter, Telegram, Facebook पर जरुर Share करे।

इसे भी पढे –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here