Bharat Ka Sabse Bada Museum Kaun Sa Hai पूरी जानकारी 2020 में

दोस्तों आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे Bharat Ka Sabse Bada Museum Kaun Sa Hai इसके बारे में कुछ रोचक बाते जानेंगे इतिहास को ओर भी बेहतर ढंग से या नजदीक से समझने में संग्राहलय हमारी खास मदद करता है संग्राहलय में हमारे बीते हुए इतिहास में हुए घटनाओ को या जो हमारे साथ बीत चुके घटनाओ को आने वाले समय में याद रखने के लिए संग्राहलय बनाया जाता है इस संग्राहलय में हमें ऐसी चीज देखने को मिलती है जो हमें सामान्य रूप से देखने को नहीं मिल पाती है भारत में कई ऐसे संग्राहलय है जिसे हमें कई इतिहासिक चीज देखने को मिलती है।

Bharat Ka Sabse Bada Museum Kaun Sa Hai

भारत में संग्राहलयों का इतिहास काफी पुराना है अगर हम इतिहास के पंनो में झकना चाहे तो तो इस काम में म्यूजियम हमारे काफी मदद करते है क्योकि म्यूजियम में हम ऐसी चीजे देख सकते है जो बाहर के दुनिया में लगभग न के बराबर है वैसे तो भारत में हजारो म्यूजियम है लेकिन आज हम बात करेंगे भारत के सबसे बड़े म्यूजियम के बारे में इससे जुड़ी हुई सारी इतिहासिक बाते तो चलिए शुरू करते है।

भारत का सबसे बड़ा संग्राहलय कौन-सा  है

भारत का सबसे बड़ा संग्राहलय अंग्रजो के अस्तित्व में आया था देश का सबसे बड़ा संग्रहालय (Museum) इंडियन संग्रहालय (Indian Museum) है इस संग्रहालय की शरुआत Asiatic Society Of Bengal के द्वारा पक्षिम बंगाल के शहर कोलकाता में 1814 में कई गई थी इस संग्रहालय के संस्थापक Nathaniel Wallich थे।

इस संग्रहालय के 6 वर्गे है आर्कियोलॉजी, ऐन्थ्रोपोलांगी, जियोलॉजी, जूलॉजी, इंडस्ट्री और आर्ट ऐन्थ्रोपोलांगी विभाग में मोहनजोदड़ो और हड़प्पा कल की निशानियाँ, जियोलॉजी में खनिज, जीवाश्म और चट्टाने, जूलॉजी में मछलियां सरीसृप और मैमथ के कंकाल, इंडस्ड्रियल के कुटीर उद्योग, दवा, वनोपज और कृषि उपज के बारे में, आर्ट गैलरी में भारतीय-पारसी स्टाइल की चित्रकारी और तिब्बती मंदिरो के सिल्क बैनर आदि आप देख सकते है यह संग्राहलय इतना विशाल है की इसे पूरा घूमने में करीब तीन दिन का वक्त लग सकता है।

भारत का सबसे बड़ा संग्रहालय का इतिहास

चलिए अब बात करते है Bharat Ka Sabse Bada Museum के बारे में कुछ अनोखी बाते को यह संग्रहालय दुनिया का नौवाँ सबसे पुराना संग्रहालय में से एक है और या भारत का सबसे पुराना संग्रहालय है और अगर हम भारत की बात करे भारत के सबसे पुराना और सबसे बड़ा संग्राहलय है और इस संग्रहालय ने जो सिक्का गैलरी है पूरी दुनिया में भारतीय सिक्को का सबसे बड़ा संग्रह है।

इस संग्रहालय में सबसे बड़ा आकर्षण यह लगता है की एक पुरे कमरे में रखा गया डायनासोर का वास्तविक कंकाल है जिसके कारन यह देश के प्रमुख पर्यटल स्थलों में शामिल है यह संग्रहालय मौजूदा समय में भारत सरकार के मिनिस्ट्री ऑफ़ कल्चर के अंतर्गत आता है इस संग्रहालय का एक और बड़ा आकर्सण का केंद्र है वो है मुग़ल काल की पेंटिंग इसके अलावा यहाँ बेशकीमती ऐतिहासिक मूर्तियों भी देखने को मिलती है यहाँ चार हजार साल पुरानी मिस्रा की ममी भी रखी है।

Bharat Ka Sabse Bada Museum

 

Indian Museum  शुरूआती नाम Imperial Museum हुआ करता था ब्रिटिश शासनकाल के समय के लेखो में इस Museum का नाम The Imperial Museum at Calcutta दर्ज मिलता है इस संग्राहलय में एक पुस्तकालय भी है जिसमे कई दुर्लभ और अद्वितीय प्रकाशनों के साथ पचास हजार पुस्तकों और पत्रिकाओ का एक विशाल संग्रह है जिसका सदस्यता शुल्क केवल 50 रूपए प्रति वर्ष है।

1 सितम्बर 2013 के लेकर 3 फ़रवरी 2014 तक इसको बड़े स्टार पर आधुनिकरण और अपग्रेड का काम किया गया जिस कारण यह बंद रहा था पुरे काम होने के बाद इसे जनता के लिए नए रूप में खोला गया Nathaniel Wallich जो की इस संग्रहालय के संस्थापक यही ये मूल रूप से Danish के रहने वाले थे उन्होंने कोलकत्ता को अपना टिकना बनाया ये सर्जन और वनस्पति विज्ञानं के बड़े ज्ञानी थे।

इसको Calcutta Batanical Carden के Development में दिए योगदान के लिए याद किया जाता है इन्होने संग्राहलय को स्थापना के समय अपने निजी संग्रह से 40 से अधिक वनस्पति के नमूने को संग्राहलय में दान किया था अगर इतनी सारी बाते जानकर अगर अपने जाने का मन बना लिया है तो मै आपको बता दू यह संग्रहालय सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक खुलता है यहाँ घूमने का सबसे उचित समय दिसंबर के फ़रवरी का है यहाँ जाने से पहले ध्यान रखे की यह संग्राहलय सोमवार सभी राष्ट्रीय अवकाश और दूंगा पूजा पर बंद रहता है।

भारतीय संग्रहालय के वर्तमान श्री अरिजीत दत्ता चौधरी है जो राष्ट्रीय पुस्तकालय के निर्देशक जनरल का भी अतिरिक्त प्रभार रखते है।

भारत का सबसे बड़ा संग्राहलय कितना पैसा लगता है।

दोस्तों सबसे जरुरी बात की अगर आप इस संग्राहलय में को घूमना चाहते है तो आपको पता होना चलिए ऐसे घूमने में कितना शुल्क लगता है अब चलिए अब ये भी जान लेते है की इस संग्राहलय में घूमने में कितना शुल्क लगता है यह शुल्क उम्र के हिसाब से बढ़ता दिखाई देता है जैसे – 0 से 5 साल के बच्चो के लिए कोई पैसा नहीं है, 5 से 18 साल के बच्चो के लिए 20 रूपया शुल्क लगाया गया है, 18 साल के बाद वाले व्यक्ति के लिए 50 रूपए शुल्क है और अगर कोई विदेशी आदमी हो यानि अगर कोई भारत का नहीं हो किसी अन्य देश का हो उसका शुल्क 500 रूपए है।

हमनें क्या पढ़ा –

इस आर्टिकल में हमने पढ़ा Bharat Ka Sabse Bada Museum Kaun Sa Hai इसके के बारे में बहुत से आसान शब्दों में बताया गया है ताकि आपको अच्छी तरह समझ में आ सके जैसे कुछ इस तरह है।

  • भारत का सबसे बड़ा संग्राहलय कौन-सा है। 
  • भारत का सबसे बड़ा संग्रहालय का इतिहास 
  • भारत का सबसे बड़ा संग्राहलय कितना पैसा लगता है। 

दोस्तो कैसा लगा ये पोस्ट Comment Box में जरूर बताएं ओर आपका कोई सवाल है तो Comment Box में पूछ सकते है।

अगर ये Post अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ Whatsapp, Instagram, Twitter, Telegram, Facebook पर जरुर Share करे।

इसे भी पढे –

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here