close button

भारत का सबसे बड़ा म्यूजियम कौन सा है – Largest Museum in India

आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे भारत का सबसे बड़ा म्यूजियम कौन सा है इसके बारे में कुछ रोचक बाते जानेंगे जैसा कि आपको मालूम है कि हमारे इतिहास को और भी बेहतर ढंग से या नजदीक से समझने में संग्राहलय हमारी खास मदद करता है।

संग्राहलय हमारे बीते हुए इतिहास में हुए घटनाओ को या जो हमारे साथ बीत चुके घटनाओ को आने वाले समय में याद रखने के लिए संग्राहलय बनाया जाता है इस संग्राहलय में हमें ऐसी चीज देखने को मिलती है जो हमें सामान्य रूप से देखने को नहीं मिल पाती है।

भारत में कई ऐसे संग्राहलय है जिसे हमें कई इतिहासिक चीज देखने को मिलती है भारत में संग्राहलयों का इतिहास काफी पुराना है अगर हम इतिहास के पंनो में झकना चाहे तो इस काम में म्यूजियम हमारे काफी मदद करते है म्यूजियम में हम ऐसी चीजे देख सकते है जो बाहर के दुनिया में लगभग न के बराबर है।

वैसे तो भारत में हजारो के मात्रा में छोटे-बड़े म्यूजियम है लेकिन आज हम बात करेंगे भारत का सबसे बड़ा म्यूजियम कौन सा है इससेxxx जुड़ी हुई सारी इतिहासिक बाते को जानेंगे इसके लिए आपको पोस्ट को अंत तक पढ़ना होगा।

भारत का सबसे बड़ा म्यूजियम कहाँ है 

Bharat ka sabse bada Museum kaha hai

भारत का सबसे बड़ा संग्राहलय अंग्रजो के अस्तित्व में आया था देश का सबसे बड़ा संग्रहालय (Museum) इंडियन संग्रहालय (Indian Museum) है इस संग्रहालय की शरुआत Asiatic Society of Bengal के द्वारा पक्षिम बंगाल के शहर कोलकाता में 1814 में कई गई थी इस संग्रहालय के संस्थापक Nathaniel Wallich थे।

इस संग्रहालय के 6 वर्गे है आर्कियोलॉजी, ऐन्थ्रोपोलांगी, जियोलॉजी, जूलॉजी, इंडस्ट्री और आर्ट ऐन्थ्रोपोलांगी विभाग में मोहनजोदड़ो और हड़प्पा कल की निशानियाँ, जियोलॉजी में खनिज, जीवाश्म और चट्टाने, जूलॉजी में मछलियां सरीसृप और मैमथ के कंकाल, इंडस्ड्रियल के कुटीर उद्योग, दवा, वनोपज और कृषि उपज के बारे में, आर्ट गैलरी में भारतीय-पारसी स्टाइल की चित्रकारी और तिब्बती मंदिरो के सिल्क बैनर आदि आप देख सकते है।

यह संग्राहलय इतना विशाल है की इसे पूरा घूमने में करीब तीन दिन का वक्त लग सकता है।

भारत का सबसे बड़ा संग्रहालय से जुड़ी रोचक तथ्य

आप जान गए होंगे कि भारत का सबसे बड़ा म्यूजियम कौन है अब आइये भारत का सबसे बड़ा संग्रहालय के बारे में कुछ अनोखी बातों को जान लेते है।

  • यह संग्रहालय दुनिया का नौवाँ सबसे पुराना संग्रहालय में से एक है और या भारत का सबसे पुराना संग्रहालय है।
  • यह भारत के सबसे पुराना और सबसे बड़ा संग्राहलय है और इस संग्रहालय ने जो सिक्का गैलरी है पूरी दुनिया में भारतीय सिक्को का सबसे बड़ा संग्रह है।
  • इस संग्रहालय में सबसे बड़ा आकर्षण यह लगता है की एक पुरे कमरे में रखा गया डायनासोर का वास्तविक कंकाल है जिसके कारन यह देश के प्रमुख पर्यटल स्थलों में शामिल है।
  • यह संग्रहालय मौजूदा समय में भारत सरकार के मिनिस्ट्री ऑफ़ कल्चर के अंतर्गत आता है।
  • इस संग्रहालय का एक और बड़ा आकर्सण का केंद्र है वो है मुग़ल काल की पेंटिंग इसके अलावा यहाँ बेशकीमती ऐतिहासिक मूर्तियों भी देखने को मिलती है यहाँ चार हजार साल पुरानी मिस्रा की ममी भी रखी है।
  • Indian Museum शुरूआती नाम Imperial Museum हुआ करता था ब्रिटिश शासनकाल के समय के लेखो में इस Museum का नाम The Imperial Museum at Calcutta दर्ज मिलता है।
  • इस संग्राहलय में एक पुस्तकालय भी है जिसमे कई दुर्लभ और अद्वितीय प्रकाशनों के साथ पचास हजार पुस्तकों और पत्रिकाओ का एक विशाल संग्रह है जिसका सदस्यता शुल्क केवल 50 रूपए प्रति वर्ष है।
  • 1 सितम्बर 2013 के लेकर 3 फ़रवरी 2014 तक इसको बड़े स्टार पर आधुनिकरण और अपग्रेड का काम किया गया जिस कारण यह बंद रहा था पुरे काम होने के बाद इसे जनता के लिए नए रूप में खोला गया।
  • Nathaniel Wallich जो की इस संग्रहालय के संस्थापक यही ये मूल रूप से Danish के रहने वाले थे उन्होंने कोलकत्ता को अपना टिकना बनाया ये सर्जन और वनस्पति विज्ञानं के बड़े ज्ञानी थे।
  • इन्होंने Calcutta Batanical Carden के Development में दिए योगदान के लिए याद किया जाता है इन्होने संग्राहलय को स्थापना के समय अपने निजी संग्रह से 40 से अधिक वनस्पति के नमूने को संग्राहलय में दान किया था।

इंडियन संग्रहालय में जाने में पैसा लगता है

दोस्तो सबसे जरुरी बात की अगर आप इस संग्राहलय में को घूमना चाहते है तो आपको पता होना चलिए ऐसे घूमने में कितना शुल्क लगता है अब चलिए अब ये भी जान लेते है की इस संग्राहलय में घूमने में कितना शुल्क लगता है आपको बता दे यह शुल्क उम्र के हिसाब से बढ़ता दिखाई देता है जैसे – 0 से 5 साल के बच्चो के लिए कोई पैसा नहीं है, 5 से 18 साल के बच्चो के लिए 20 रूपया शुल्क लगाया गया है।

18 साल के बाद वाले व्यक्ति के लिए 50 रूपए शुल्क है और अगर कोई विदेशी आदमी हो यानि अगर कोई भारत का नहीं हो किसी अन्य देश का हो उसका शुल्क 500 रूपए है तो मै आपको बता दू यह संग्रहालय सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक खुलता है यहाँ घूमने का सबसे उचित समय दिसंबर के फ़रवरी का है।

यहाँ जाने से पहले ध्यान रखे की यह संग्राहलय सोमवार सभी राष्ट्रीय अवकाश और दूंगा पूजा पर बंद रहता है भारतीय संग्रहालय के वर्तमान श्री अरिजीत दत्ता चौधरी है जो राष्ट्रीय पुस्तकालय के निर्देशक जनरल का भी अतिरिक्त प्रभार रखते है।

FAQ

Q : भारत का सबसे बड़ा संग्राहलय कौन सा है?

Ans : भारत का सबसे बड़ा संग्राहलय कोलकाता है जिसे सन 1878 आम जनता के लिए खोल गया था।

Q : भारत का प्रथम और प्राचीन संग्रहालय कौन सा है?

Ans : भारत का सबसे पहला और प्राचीन संग्रहालय दिल्ली लाल किले के पास स्थित पुरातत्व संग्रहालय भारत के सबसे पुराने संग्रहालयों में गिना जाता है।

Q : Museum Meaning क्या है?

Ans : म्यूजियम शब्द का अर्थ संग्राहलय या अजायबघर होता है यहां पर अनेको प्रकार के अनोखी चीजों को देखने को मिलता है।

Q : नेशनल म्यूजियम की स्थापना कब हुई?

Ans : नेशनल म्यूजियम की स्थापना 15 अगस्त 1949 को हुई थी।

Q : एशिया का सबसे पुराना म्यूजियम कहाँ है?

Ans : एशिया का सबसे पुराना म्यूजियम कोलकाता में जिसका नाम इंडियन म्‍यूजियम है।

अब तो आप समझ गए होंगे कि भारत का सबसे बड़ा म्यूजियम कौन सा है – Largest Museum in India इसके बारें में काफी अच्छी तरह से बताया गया है ताकि आप अच्छी तरह से समझ सकें।

उम्मीद करता हूँ की आपको यह पोस्ट पसंद आया होगा अगर आपको इसके बारे में समझने में कोई दिक्कत हो या कोई सवाल है तो कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है हम आपके प्रश्न का उत्तर जरूर देंगे।

अगर ये पोस्ट आपको अच्छा लगा तो अपने दोस्तों के साथ आगे Whatsapp, Instagram, Twitter, Telegram, Facebook पर जरुर Share करे।

इसे भी पढ़े –

Leave a Comment